बस एक ही अरमान

17 Jun बस एक ही अरमान

हर दिशा का अपना कमाल

वो कर गए कुछ ऐसा धमाल

जिसकी चाहत रहता है

हर एक नौजवान

उनकी नज़रों में था हर कोई समान

खोफ से थरा जाती थी हर वो जबान

जब सामना आते थे प्राण

हर खलनायक का आज

बस एक ही अरमान

कुछ पल ओर जी जाए

प्राण बन के हमारे प्राण

No Comments

Post A Comment