Hindi Shayari

Hindi Shayari , Hindi Font Shayari, New Hindi Shayari 2018, Best Hindi Shayari , Funny Hindi Shayari, Latest Hindi Shayari, Hindi Love Shayari, Hindi Sad Shayari, Shayri in hindi, hindi shayari on love ,hindi shayari sad ,
hindi shayari video ,hindi shayari song ,hindi shayari funny ,hindi shayari download ,
hindi shayari photo ,hindi shayari status ,hindi shayari dosti ,hindi shayari app download ,hindi shayari about love ,hindi shayari album , hindi shayari apno ke liye , hindi shayari app download 2019 ,hindi shayari anniversary ,hindi shayari audio ,hindi shayari about life ,the hindi shayari image ,a romantic hindi shayari ,a nice hindi shayari ,
a attitude shayari hindi ,
impress a girl hindi shayari ,
hindi shayari best ,hindi shayari birthday ,hindi shayari bhai bhai ,hindi shayari bolne wali ,hindi shayari bataiye ,
hindi shayari best friend ,hindi shayari bf ,hindi shayari book,hindi b shayari

24 Jun

छोटी छोटी बातों पे बिगड़ना

Motivational poetry

Choti choti baton pe bigadna

हर किसी ने
कहीं ना कहीं
कुछ गलत
कुछ सही
है सहा
कुछ ने कहा
कुछ ने सहा
जिक्र कही ना कहीं
सभी ने किया
ऐहतियात बरतना
नए रिश्तो की डोर है
ज़रा नाजुक है
ज़रा संभलना
एक दूजे को समझना
परायो से छुपाना
अपनों से निभाना
वक़्त का काम है गुजरना
अच्छा नहीं होता है
छोटी छोटी बातों पे बिगड़ना गड़ना

Choti choti baton pe bigadna

24 Jun

रखते हैं एसी ख्वाहिश

जाने अनजाने में
हमारे फसानो में
आप कुछ यूँ शामिल हुए
जिंदगी में हमारी
वो निखर आया
भुला ना पाए
ऐसा प्यार पाया
परेिानियों में करते हैं
आप ही से गुजारिश
सपनो में हमारे रोज़ आया करो
रखते हैं ऐसी ख्वाहिश

24 Jun

मुझसे मेरा साया

मुद्दतो में किसी को
ऐसा प्यार नसीब है होता
वो है बदनसीब जो
उस पर से यकीन है खोता
कहते नहीं बनता
सपने जो था बुनता
हुबहू तुममे पाया
खुदा ने मिलाया
मुझसे मेरा साया

24 Jun

वक़्त भी कर्मो के अधीन

ना डरे
बस करे
वो जिसपे हमें यकीन है
क्यूंकि………..
वक़्त भी कर्मो के अधीन है
जिक्र जब ही से करने लगेंगे
अपनी परेशानियों का
फिक्र नहीं, निभाने लगेंगे
फ़र्ज अपनी जिम्मेदारियों का
फिर धीरे धीरे जीवन संवरने लगेगा
मंजिल दूर ही सही
पर रास्ता सुनहरा बन पड़ेगा

24 Jun

मिल्खा सपनो की खातिर

Inspirational poems

Milka sapno ki khatir

वो बस जीतना चाहते थे
रुकना उन्हें नागवार जो था
मंजिल भी उनका
इंतज़ार कर रही थी
उनका वक़्त घोड़े पर सवार जो था
पांच नदियों के संगम से
जो कहलाया पंजाब
मिल्खा को भी था उस
माँ से प्यार बेहिसाब
लोगों के सपनो के पंख हैं लगते
और मिल्खा सपनो की खातिर
दिन रात थे बस दोड़ते
स्वर्णिम एहसास हमें कराया था
उन्ही की बदौलत जब खेल के मैदान में
तिरंगा हमारा लहराया था
स्वर्ण पदक उनके सीने का
जज्बा देता है ना जाने
कितनो को जीने का

Milka sapno ki khatir

देश भक्ति कविता इन हिंदी
24 Jun

देश भक्ति कविता इन हिंदी

Desh bhakti kavita in hindi

Swami Vivekanand ji

सुनोगे उस नोजवान की दास्तान ,
जिसने हमको डर से लड़ना सिखाया था |
डर किया है कुछ भी तो नहीं ,
हमें अच्छी तरह समझाया था |
सिंघनाद कर आगे बढ़ो ,
उठो, जागो और कुछ तो करो |
भक्त बनो पर कर्म भी तो करो |
यह पाठ पढाया था |
शिक्षा के सही अर्थ को सिखलाया था |
चरित्र निर्माण को सर्वोपरी बताया था |
कितने ही युवको के प्ररक थे वो ,
भगत , सुभाष , अरविन्द घोष
के विचारो के आधार |
उनसे प्रेरणा ले चुके जाने
कितने कलेक्टर बेमिसाल |
कुछ बनना चाहते हो जो
तो जानलो एक बात |
करो खुद पर विश्वास
और आगे बढ़ कर ,
बढाओ दूजे के लिए हाथ |
पढो विवेकानंद को
और ओढो उनके विचार |

Shaheed Bhagat Singh ji

Desh bhakti kavita in hindi

देश भक्ति कविता इन हिंदी

सनक थी कुछ कर जाने की
गोले बारूद उगाने की
दरिंदो की दरिंदगी की
शहादत का अर्थ समझाने की
गुजारिश माँ से किया करते थे
मिटटी का कर्ज चुकाने को
दिन रात तर्पा करते थे
कर्म उनका गीता का ज्ञान बना
चरित्र उनका उनकी ढाल बना
विवेकानन्द को पढ़
उन्होंने खुद पे विशवास था बढाया
हर आम में ख़ास होने का
एहसास था जगाया
छोटी सी उम्र में ऐसा काम कर गए
2 3 मार्च 1931 को वो दिलों में
हमारे अपना नाम कर गए

देश भक्ति कविता इन हिंदी

Desh bhakti kavita in hindi

24 Jun

विवेकानन्द

लोगों ने कहा वो माने नहीं
सब ने कहा उस ओर जाना नहीं
बरखा संग आंधी ने वो राग छेदा
बिजली की कड कडाहट ने भी
उनके संग था नाता जोड़ा
रात है की गुजरना नहीं चाहती थी
भटके मुसाफिर को ओर
भटकना चाहती थी
उन्हें भी मंजिल को पाने
का नशा हो गया था
डर भी जैसे कहीं सो गया था
कमजोरियों को अपनी
वो कर चुके थे दरकिनार
तोड़ चुके थे वो
अंधविश्वास की हर दीवार
मोहताज नहीं थे वो किसी के
अजीज थे वो हर किसी के
सारी दुनिया में रोशन भारत हुआ
संस्कृति का हमारी आदर हुआ

24 Jun

विवेकानन्द

लोगों ने कहा वो माने नहीं
सब ने कहा उस ओर जाना नहीं
बरखा संग आंधी ने वो राग छेदा
बिजली की कड कडाहट ने भी
उनके संग था नाता जोड़ा
रात है की गुजरना नहीं चाहती थी
भटके मुसाफिर को ओर
भटकना चाहती थी
उन्हें भी मंजिल को पाने
का नशा हो गया था
डर भी जैसे कहीं सो गया था
कमजोरियों को अपनी
वो कर चुके थे दरकिनार
तोड़ चुके थे वो
अंधविश्वास की हर दीवार
मोहताज नहीं थे वो किसी के
अजीज थे वो हर किसी के
सारी दुनिया में रोशन भारत हुआ
संस्कृति का हमारी आदर हुआ

24 Jun

विवेकनान्दा और उनके विचार

आँखे उनकी आज भी
जैसे मुझे ही देख रही हैं
सवाल पे सवाल कर रही हैं
कया हुआ उन वादों का
उन लोहे से इरादों का
जिद्द थी ना तेरी
की सुल्झाऊंगा वो अनसुलझी पहेली
माना वक़्त लग रहा है
पल पल रेत सा बह रहा है
इतना सोचा ही था की
चहरे पे मेरे मुस्कान उतर आई
उन्ही की कही बात याि आई
इंसान गुजर जाते हैं
पर उनके विचार
उनके विचार
अपनी मंजिल पा ही जाते है
और कुछ ही देर में हम फिर से
उनके दिए काम में मन लगाते हैं

24 Jun

विवेकनान्दा और उनके विचार

आँखे उनकी आज भी
जैसे मुझे ही देख रही हैं
सवाल पे सवाल कर रही हैं
कया हुआ उन वादों का
उन लोहे से इरादों का
जिद्द थी ना तेरी
की सुल्झाऊंगा वो अनसुलझी पहेली
माना वक़्त लग रहा है
पल पल रेत सा बह रहा है
इतना सोचा ही था की
चहरे पे मेरे मुस्कान उतर आई
उन्ही की कही बात याि आई
इंसान गुजर जाते हैं
पर उनके विचार
उनके विचार
अपनी मंजिल पा ही जाते है
और कुछ ही देर में हम फिर से
उनके दिए काम में मन लगाते हैं