Love Shayari

Doston swagat hai aap sabhi ka shayari ki dukan me jahaan hum aapse share kar rahe hain 100 se bhi zyada love shayari . Aasha karte hain aapko yeh sabhi shayari pasand aayegi . Shayari yahan aapko kaisi lagi yeh hame in aap jarur bataiyega .

love shayari

1)महसूस कुछ यूँ किया है
पी रहा हूँ अमृत
जिसका जिक्र हमने आज
पहली ही दफा किया है
अब जैसे हर पल को
खुल के जिया है
किस्सा कुछ ऐसा ही है हमारा
हिस्सा हो चुके हैं हम तुम्हारा
बड़ी खुबसूरत है हमारी जहाँआरा

2)तसवीरें बोल पड़ेंगी
तकदीरें जाग उठेंगी
बजने लगेंगी शहनईयां
लुट जाएूँगी तनहाइयां
जब जब नज़रें तुम्हारी
हम से मुलाकातें करेंगी
आदतें हमारी तुम पहचानती हो
दूरियां हैं क्यूँ यह भी जानती हो
और क्या चाहे खुद से
जब तुम हमें अपना मानती हो

3)संभाला तुम्ही ने अपने आँचल में
मेरी हर हार के बाद
आयी तेरे होठों पे मुस्कान
मेरे सूखे प्याले में भर जाए
खुशियाँ कुछ ऐसे थे मेरे अरमान
हाँ में था नादान
मुझे इल्म ही न था
तू ही है मेरी सच्ची कदरदान
संभाला तुम्ही ने अपने आँचल में
बाँधा मेरी हर बूँद को बरसाती बादल में
इस दफा कुछ ऐसा बरसूँगा
हारू या जीतू मैं बस झूमूँगा

16 Aug

अपने प्यार की खातिर

Romantic shayari

New shayari status

अपने प्यार की खातिर

मैं निकल चुका था

जिन्दगी की धुप-छाँव में

बिखर चुका था

इरादों को सहेजने की खातिर

टूट चुका था

अंदाज मेरे कुछ

जुदा जुदा ही थे

शायद उस पल को मेर संग

खुदा ही थे

प्रेरणा जीने की

सपनों की इमारत

खड़ी करने की

जिद्द जाने कहाँ से आयी

रूकावटो की हद भी

हमने दूर भगायी

पाने तुम्हे निकले थे

नसीब में हमें मिली खुदायी

जिन्दगी रोशन हुई

हमारे प्यार को मिली गहरायी

 

New shayari status

 

हम मस्त कलंदर

एक नग

जो नथनी बना बैठा है

काजल से तुम्हारी ऐठा ऐठा है

कंगन भी कुछ कम नहीं

पहला दूजे से रूठा बैठा है

पायल भी तुम्हारी

याद में हमारी

गा रही क़वाली

मेरी मासूम कली

मिश्री की डली

रूठो न यूँ की सूना सूना सा

हो जाता है मंजर

ज़रा हंस भी दो की

हो जाये हम मस्त कलंदर

हमारी जहाँआरा

New shayari status

महसूस कुछ यूँ किया है

पी रहा हूँ अमृत

जिसका जिक्र हमने आज

पहली ही दफा किया है

अब जैसे हर पल  को

खुल के जिया है

किस्सा कुछ ऐसा ही है हमारा

हिस्सा हो चुके हैं हम तुम्हारा

बड़ी खूबसूरत है हमारी जहाँआरा

आदतें हमारी तुम पहचानती हो

तसवीरें बोल पड़ेंगी

तकदीरें जाग उठेंगी

बजने लगेंगी शेहनाईयां

लुट जाएँगी तनहाइयाँ

जब जब नज़रें तुम्हारी

हम से मुलाकातें करेंगी

आदतें हमारी तुम पहचानती हो

दूरियां हैं क्यूँ यह भी जानती हो

और क्या चाहे खुद से

जब तुम हमें अपना मानती हो

हीर राँझा काअवतार हो

New shayari status

जो इश्क में हैं होते

वो वक़्त को जाया

यूँही नही किया करते

जहां से हैं गुजरते

लोग उन जैसा होने हैं लगते

बादल भी हैं जब जब बरसते

मोहब्बत को भीगाने को हैं तरसते

और प्यार में डूबना तो है एक कला

जो डूबा वो अपने खुदा से जा मिला

ज़रा ढूंढो अपने प्यार को

और जो ढूढ़ चुके हो तो

ज़रा समझो अपने यार को

महसूस करो उसके दीदार को

रब करे प्यार तुम्हारा सदाबहार हो

क्या पता तुम ही में अगले

हीर राँझा का अवतार हो

खुदा करे खुशियाँ तुम्हारे

जीवन में बेशुमार हो

New shayari status

इन्द्रधनुष के सातोंरंग

अंदाज़ ए वफ़ा

कुछ ऐसा होगा

तेरा पल पल इन

आँखों में बयां होगा

रोम रोम मेरा

फिर से जवां होगा

ऐसा समा ओर कहाँ होगा

जब हम तुम होंगे संग

ढूंढ लेंगे हमें

इन्द्रधनुष के सातों रंग

बज उठेंगे ताल और मृदंग

जश्न में डूबेंगे

हम और हमारी हमदम

 

15 Aug

इबादत करें

इबादत करें

शुकराना करे

आरज़ू करें

बस तुम्हारी

चाहत करें

शराफत करें

खिदमत में तुम्हारी

हम सिमट रहे हैं

आरजूओ में तुम्हारी

समझो जरा कुदरत के इशारे

हम हैं बस तुम्हारे सहारे

जन्नत मिली हैं मुझे

कभी बैठा था मैं सुनसान किनारे

कभी ना भूलेगे हम

ये एहसान तुम्हारे

15 Aug

हसरतों की ख्वाहिशो में

हसरतों की ख्वाहिशो में

नम आँखों की चाहतो में

रूह की खामोशियो में

तुम्ही बताओ भला

कौन रहता हैं

साथ जिसका

हर पल चाहे

तरसे जिसको

हमारी बाहें

उन यादो में कहो तो भला

कौन रहता है

समझों जरा इशारे

हम तुम संग हैं

नही कोई सागर के किनारे

जो तडपते रहेगे

एक दूजे को निहारे

न कोई दूरी है

न ही कोई मजबूरी

सिमट रही है दुनिया मेरी

चाहतों में तुम्हारी

13 Aug

ओ मेरी रानी

ओ मेरी रानी

मेरी कहानी

क्यूँ तुम मेरी दीवानी

तुम हो कितनी सयानी

उस खुदा की रहमत से अनजानी

दीदार को तुम्हारे तरसती

जाने कितनी जिंदगानी

जाने फिर भी क्यूँ तुम मेरी दीवानी

मैं नादान

इस दुनिया से अनजान

कहते को इंसान

पर मेरी इक तुम्ही पहचान

जीवन भर रहे मेरे चेहरे पे

तेरी दी हुई मुस्कान

तुम्हारा प्यार ही हैं

मेरी जिन्दगी की शान

मेरी खुशियाँ

तुम्हारा दिया हुआ दान

मैं कौन

मेरी तुम हो आन

अंदाजा कोई क्या लगाएगा

तुम्हारी खातिर मेरा साया भी

सूली चढ़ जायेगा

वक्त जैसे-जैसे गुजरता जायेगा

हमारा प्यार सुनहरे रंगों का

इन्द्रधनुष बन

उस आकाश में लहराएगा

जिसे देख हर किसी के दिल में

मोहब्बत का सुरूर एसा छाएगा

की नफ़रत फ़ैलाने वालो का

खुद ही पर से ऐतबार उठ जायेगा

और उसी पल

तुम्हारा मेरा इश्क

गंगा की लहरों सा

चांदनी रात के उजालो सा

हर किसी के दिल को

रोशन कर जायेगा

दिल मेरा एक सवाल

फिर से दोहराएगा

क्या तेरा मेरा प्यार

अगले जनम भी यूंही गुनगुनाएगा

12 Aug

जब भी कोई ख्वाब पूरा हुआ

जब भी कोई ख्वाब पूरा हुआ

मेरा मन जैसे सुनहरा-सुनहरा हुआ

तुमसे जब जब मिलना हुआ

जहन में मेरे एक सवाल पुख्ता हुआ

की इतना हसीना ख्वाब

मेरा न जाने कैसे हुआ

किस तरह न जाने

मेरा मुकद्दर मुझपे मेहरबान हुआ

कैसे मेरे नसीब में फूलो का गुलिस्ता हुआ

कौन से कर्म की

या मेर धरम की

न कहना अब की मैनें लिखने में शर्म की

तुम मिली मुझे

क्यूकि खुदा ने मुझ पर रहमत की

11 Aug

सपनों की दुनिया

सपनों की दुनिया

में हकीकत के फ़साने

बंद आँखों के सपने

होते हैं लुभावने

दुनिया क्या जाने

मेरे सपनों की कीमत

मेरी मोहब्बत ही है

मेरी ज़ीनत

क्या कह रहा हूँ

क्या सोचा रहा हूँ

हकीकत से

दो दो हाथ कर रहा हूँ

एक गैर की चाहत में

दिन रात एक कर रहा हूँ

उस खुदा की रहमत हो

बस यही इन्तजार कर रहा हूँ

बस कुछ करने की ख्वाहिश थी

पर अपनों की खातिर

आज उनके ख्वाबो को जी रहा हूँ

10 Aug

मैं तुमको चाह कर भी

मैं तुमको चाह कर भी

चाह ना सका

मैं तुमको पा कर भी

पा न सका

अब अंधेरे में तुम्हारी

जुस्तजू की

क्यूँ फिर हमने तुम्हारी आबरू

की कद्र ना की

सब्र कैसे करे की

हम सदमे में हैं

किससे कहें

बेहतर होता की

वक्त पे काबू रख पाते

हम उन पलो के

दाग धो पाते

काश तुम जब भी कही जाती

हम तुम्हारे साथ हो जाते

09 Aug

प्यार तुम्हारा पाया

प्यार तुम्हारा पाया

रोशन हुआ मेरा साया

रात हो या दोपहर

बरसा रही हो

अपने हुस्न का कहर

जिस्म में लगी है आग

तुम्हे छूने भर से

तुम्हे पाने की ख्वाहिश रखते हैं

न जाने कब से

प्यास के अंगारे को और न भडकाओ

तडप रहा हूँ में

मेरी यह आग बुझाओ

आओ जरा पास हमारे

और प्यार की अलख जगाओ

love shayari
08 Aug

आज फिर सवेरा हुआ

आज फिर सवेरा हुआ

लेकिन सुनहरा हुआ

आगोश में तुम्हारे गुजारी थी

जो कल की रात

काश होता तुम्हारा हमारा

पल पल का साथ

रात हो जाती यूँही लिए

हाथों में हाथ

तुम्हारी साँसो में बस जाएँ हम

ये जिन्दगी यूँही गुजर जाये

तो न रहे कोई गम

चाहत से सराबोर हैं

तुम्हरे प्यार में मदहोश है

बहते झरने के मीठे जल

की मीठास लिए

मोहब्बत में अपने होठो को सिए

कुछ कह रही हैं

तुम्हारी खामोशियाँ

जैसे चाह रही है

थोड़ी और नजदिकिया

07 Aug

प्यार में तुम्हारे दीवाने हुए

प्यार में तुम्हारे दीवाने हुए

इस दुनिया में रहने के काबिल हुए

बातो में तुम्हारी शामिल हुए

जैसे खुदा की खिदमत में हाजिर हुए

फिर क्यूँ कहती हो

हम जालिम हुए

बस कुछ पलो के लिय ही सही

आज हम तुममे शामिल हुए

         प्रेम खत

मेरी प्रिय,

मेरी जानेमन यह कोई इतेफ़ाक नही की हम तुम मिले एक दूजे के हुए| यह सृष्टि की ख्वाहिश थी | हर फुल की गुजारिश थी | जिन्दगी तो दो पल की  भागदौड हैं| बस प्यार से तुन्हारे यह जीवन सराबोर है | लिखने की ख्वाहिश भी तुम ही से, कुछ करने की चाहते भी तुम ही से| जिन्दगी यूँही गुजर जायेगी, तुम्हारी जुल्फों की छांव में |

तुम्हारा प्रियतम