साया हूँ मैं

15 Jun साया हूँ मैं

कलमा तेरे इश्क में
लिखने की ख्वाहिश लिए
आनंद में हैं………..
मत पूछो की
हम तेरी चाहत में हैं
जाने कितने सपनो को
सपना बनाया
पर एक तू ही है
जिसे सपनो में भी अपना पाया
साया हूँ में
भूल बैठा हूँ अपनी काया

No Comments

Post A Comment