Shayari ki Dukan

13 Jun

मेरा गुमान हो तुम

जीवन का आधार हो तुम |
मेरा गुमान हो तुम |
शुक्र है की मेरे पास हो तुम |
मेरी पहचान हो तुम |
जीने का अंदाज़ हो तुम |
खुद को बदल देंगे तुम्हारी खातिर |
एक बार कह जो दो तुम |

hum aapse bahut pyar karte hain
13 Jun

साथ हमारा….

हाथों में रख कर हाथ |
दोनों बैठे थे साथ |
जाने क्या थी बात |
दोनों चाल दिए साथ |
कुछ देर बाद |
फिर दिखे साथ |
हाथों में लेके हाथ |

13 Jun

बातें तेरी इश्कानी

मैंने कही तुने मानी |
तेरे बिना जिंदगी बेमानी |
बातें तेरी इश्कानी |
महके जैसे रात की रानी |
हाथों में रख कर पानी |
तू सोचे बन जाऊ जल की रानी |
तेरी बातों की ही तरह |
तू तो है बहता पानी |

13 Jun

दीवानगी

तेरी दीवानगी की कोई हद नहीं |
हमारे प्यार की कोई सरहद नहीं |
प्यार के समंदर में डूबे दो दीवाने |
जिसकी कोई हद नहीं |

13 Jun

देखके तेरी तस्वीर

उन चन्द लम्हों की दरकार है
जब तुझे अपना कह सकूँ |
सच कहूँ तो उस पल को भी
तुम से बड़ी आस है |
तेरे आने का वक्त है करीब |
एस वास्ते रूह को मैं दे रहा तहजीब |
तुझसे मिलने की मैं
हर पल करता रहता हूँ मैं तरकीब |
खाली वक्त में बहला लेता हूँ मैं
खुद को देखके तेरी तस्वीर |

13 Jun

अब होश नहीं

पंख लगे हैं तबसे |
तुमसे मिले हैं जबसे |
होि में आन वाले हैं |
तुझ में खो जान वाले हैं |
सपनो की दुनिया से निकल ,
हकीकत को पीन वाले हैं |
वक्त हो गया है तेरे होठों से
अपन लबो को लगायेंगे |
हम तुम्हे फिर से
जन्नत का एहसास कराएँगे |

13 Jun

गीत गुनगुनाउंगी

देख के तुझको एक चिड़िया चहकी ,
बोले बिंदिया लगाउंगी|
तेरे साजन के घर जाउंगी |
मन में उठी हलचल दूर भगाउंगी |
तेरे संग डोली में जाउंगी |
मिलन के गीत तेरे लिए गुनगुनाउंगी |

love shayari
13 Jun

बज उठी शहनाइयां

तेरी मेरी प्यार की दास्तान ,
हर जुबान पे आएगी |
चंद दिनों में शहनाइयां बज जायेंगी |
संगीत में सब झूम उठेंगे |
मिलने को हम बैचैन खड़े हैं |
पर दरवाजों के ताले जड़े हैं |

jai sri ram
13 Jun

जो लिखी कहानी

लिख रहे थे कहानी हम उसी को जीने लगे |
चंदा संग तारे तुझे निहारने लगे |
हम तुम संग हैं , अब जन्मों-जन्मों के खातिर |
जो न कह वो भी तुने सुना |
क्यूंकि हम दोनों ने प्यार को बुना |

13 Jun

नया मेहमान

सोचो जरा कुछ ऐसा हो जाए |
तेरे मेरे बीच में नया मेहमान आ जाए |
कहीं ऐसा तो न होगा |
तेरे मेरे बीच का प्यार ,
कहीं कम तो न होगा |
हम उसे अपने सीने से लगायेंगे |
और तुझे अपने दिल में सजायेंगे |