Shayari ki Dukan

13 Jun

hot shayari

स्याही जब कागज़ को छूती है ,
कुछ तो कहती है ,
कागज़ को रंगीन करती , अपनी पहचान बनाती |
शायद कागज़ के कान में कुछ फुसफुसाती |
जैसे तेरे बबना क्या मेरी तकदीर है ?
कागज़ कहे मुझपे बनी ये जो तस्वीर है |
सभी के दिलों के करीब है |
तुम्ही से तो इस तस्वीर की तकदीर है |

13 Jun

हमसफ़र मेरे

अपनी अपनी मंजिलो का दामन ,
थामें सब भाग रहे हैं |
हम तुम्हे अपना हमसफ़र जान रहे हैं |
भूल कर भी शक ना करना हमारे प्यार पर
इतना एहसान करना, इस गुलाम पर |
हमारा प्यार है शबाब पर |
आ मेरे जीवन को गुलज़ार कर |

13 Jun

रूठना मना हैं

यह तुझे नहीं हैं पता ,
मैंने कब – कब तुझे अपने कहा |
तू हर पल मेरे साथ है |
तू मेरे रूह की पहचान है |
तुझसे रूठकर जाऊंगा कहाँ |
ढेर सारा प्यार लुटाऊंगा कहाँ |

13 Jun

सपनो की मूरत

Love shayari

Sapno ki murat

दूर – दूर तक तेरा सा नहीं |
तेरे सिवा कोई अपने सा नहीं |
सपनो की मूरत को तुझमे रूबरू पाया है |
तुझसे दूर रहकर , खुद को तनहा पाया है |
तुझे पास रखने की फररयादे करता हूँ |
अब तो नींद में भी तुझसे ही मुलाकातें करता हूँ |

Sapno ki murat

12 Jun

सच्चा प्यार

Love shayari in hindi

Sachcha pyaar

तू जब पास हो, मेरी रूह में समा जा |

तू जब उदास हो मेरे पहलू में आ जा |

तेरी हर बात पे प्यार आएगा |

वक़्त के साथ जानम यह प्यार बढ़ता ही जायेगा |

कुछ रूठने के बाद मनाना अच्छा होता है |

झूठी नाराजगी के बाद का |

प्यार ही सच्चा होता है |

Sachcha pyaar

12 Jun

मिलेंगे हम तुम

Love shayari

Milenge hum tum

खुदा की चौखट चूम कर ,

उस खुदा की मेहर का शुक्रिया करता हूँ |

यह ज़मीन आस्मां रहे ,

हमारे प्यार के तराने सुनाने को |

प्यार के गीत गुनगुनाने को |

उस खुदा की कृपा रहे ,

सिर्फ चन्द दिन रहे हैं ,

दो दिलों के मिल जाने को |

Milenge hum tum

12 Jun

चार नही सवा चार

Romantic shayari

Chaar nahi sawa chaar

जब तू मेरे साथ होगी , वो घडी जल्द ही हमारे साथ होगी |

घंटो गुजर जायेंगे यूहीं बातों – बातों में ,

तनहा रातो की कोई बात न होगी |

प्यार से रोशन संसार में खुशियों की बरसातें होगी |

ओ सनम जब तू होगी ,

तो जीवन  की घड़ियाँ चार नहीं सवा चार होंगी |

Chaar nahi sawa chaar

bahut pyara hai hamara sanam
12 Jun

शरारतें प्यार की

Love shayari

Sharaarten pyaar ki

तेरे प्यार ने इस कदर बांधा |

तेरी जुल्फों के साए, उस पर तेरी निगाहें |

बहुत बदमाश हो तुम ,

पहले अपनी बाहों के हार से मदहोश करती हो |

लेकर आहें हमें बेचैन करती हो |

और जब लमिने आयें तो हमें दूर करती हो |

Sharaarten pyaar ki

12 Jun

एहसास तेरा……

तुने अपनी आँखों में छिपा के रखा |

कुछ लफ्जों में दबा के रखा |

हम मिले कई मरतबा ,

तुने अपने जज्बातों को दबा के रखा |

तन्हाई में सनम , तेरी आँखों से जो छलका ,

उस एहसास को हमने अपने दिल में संजोये रखा |

12 Jun

दस्तक तेरे आने की

तेरी यादो के झरोखे हर तरफ |

हमारी मोहब्बत के चर्चे हर तरफ |

हम और तुम अब हुए हम -तुम |

तेरे आने की दस्तक सुनी है जब से |

हम खुद ही के काबू में नहीं हैं तब से |