संभाला तुम्ही ने अपने आँचल में

15 Jun संभाला तुम्ही ने अपने आँचल में

मेरी हर हार के बाद
आयी तेरे होठों पे मुस्कान
मेरे सूखे प्याले में भर जाए
खुशियाँ कुछ ऐसे थे मेरे अरमान
हाँ में था नादान
मुझे इल्म ही न था
तू ही है मेरी सच्ची कदरदान
संभाला तुम्ही ने अपने आँचल में
बाँधा मेरी हर बूँद को बरसाती बादल में
इस दफा कुछ ऐसा बरसयूँगा
हारू या जीतू मैं बस झुमुँगा

No Comments

Post A Comment