X

2 line shayari – Dopahari

दोपहरी में भी
तेरी आस लगाए
छत पर बैठे हैं।
तू आती ही होगी
इस फिराक में
नज़रे गड़ाए बैठे हैं

Dopahar me bhi
Teri aas lagaye
Chhat par baithe hain
Tu aati hi hogi
Is firak me
Nazarein badalate baithe hain

This post was last modified on June 3, 2019 12:20 pm

" Alok Yadav : ."