बेस्ट शायरी इन हिंदी

07 Mar बेस्ट शायरी इन हिंदी

Best shayari in hindi

Best shayari in hindi

Best shayari in hindi

Best shayari in hindi

Best shayari in hindi

Best shayari in hindi

 

Best shayari

 

बात यह नहीं कि
कितनी खूबसूरत हो तुम
बात तो यह है कि
हमारे दिल मे बसी
उस खुदा की मूरत हो तुम

 

———————————–

 

तमन्ना तुम्हारी भी रही होगी
किसी ऐसे से दिल लगाएँगे की
दुनिया वाले देखते रह जाएंगे

शायद इसी खातिर
हम इस ज़मीन पर आए हैं कि
मोहब्बत में तुम्हारी
हम खुद ही को
बदनाम कर जाएंगे

 

——————————-

 

बस कर ए दिलरुबा
इतना भी ना रूठ की
हमारी सांसें ही रुक जाएं

बड़ी नाज़ुक डोर से बंधे हैं हम
डरते हैं कहीं एक
दूजे से आगे ना निकल जाए

 

———————————–

 

 

तेरे प्यार में डूबे हैं
इस कदर की
बीच भंवर में फंसे हैं
फिर भी लगता है कि
किनारा पा गए

जीने को दो पल की ही थी
ज़िन्दगी मेरी
जिन पलों में हम
तेरा साथ पा गए

 

———————————

Best shayari in hindi

 

होश अब कहां है हमे
की तेरे आने भर से
बेचैनी बढ़ जाती है

हमे आदत हो चली है तुम्हारी
तुम रूठ जाती हो तो
सांसें हमारी टूट सी जाती हैं

 

—————————–

 

तेरे आने की जबसे
उम्मीद जगी है
लगा जैसे मुझसे मेरी
तकदीर मिली है

जब से सुना
पास ही बरसात हुई है
लगा जैसे तेरी मेरी
फिर से मुलाकात हुई है

बहके बहके से फ़िर रहे हैं
मन ही मन चहक रहे हैं
की वो हमसे मिलने को
बेक़रार खड़ी हैं

इकरारे वफ़ा का दौर
भी शुरू हुआ
मोहब्बत का सिलसिला
किस्मत से हमे भी क़ुबूल हुआ

 

Best shayari in hindi

 

Baat ye nahi ki
Kitni khubsoorat ho tu.
Baat to ye hai ki
Hamare dil me basi
Us khuda ki murat ho tum
———————————–
Tamanna tumhari bhi rahi hogi
Kisi aise se dil lagayenge
Ki duniya waale dekhate reh jaayenge
Shayad isi khatir
Hum is zameen par aaye ki mohabbat me tu.hari
Hum khud hi ko badnaam kar jayenge

————————————

Bas kar ae dilruba
Itna bhi naa rooth ki
Hamari saansein hi ruk jaayein

Badi nazuk dor se bandhe hain hum
Darte hain kahin ek duje se aage baa nikal jaayein

—————————————-

Tere pyaar me doobe hain is qadar ki
Beech bhanwar me fanse hain
Phir bhi lagta hai ki
Kinara pa gaye

Jeene ko do pal ki hi thi
Zindagi meri
Jin palon me hum
Tere saath pa gaye

—————————————

Hosh ab kahaan hai hame ki tere aane bhar se bechaini badh jaati hai

Hame aadat ho chali hai tumhari tum rooth jaati ho to saansein hamari toot si jaati hain

 

————————————–

 

Tere aane ki jab se ummeed jagi hai
Laga jaise mujhse meri
Taqdeer mili hai

Jab se suna
Paas hi barsaat huyi hai
Laga jaise teri meri
Phir se mulaqaat huyi hai

Behake behake se phir rahe hain
Man hi man chechak rahe hain
Ki wo hamse milne ko beqaraar khadi hain

Iqraare wafaa ka daur
Bhi shuru hua
Mohabbat ka silsila
Kismat se hame bhi qubool hua