X

Love Shayari

मेरा मकसद था

कहती हो एहसान मेरी चाहत से अनजान लगती हो नादान ज़रा सुनो यह प्यार भरा फरमान अब कुछ भी हो जाए चाहे हम कितना भी सतायें या हम तुमसे रूठ जाये तुम झुकना नहीं कहने से चूकना भी नहीं गुनाह को मेरे मैं कुबूल करूूँगा फिर कभी दोबारा ना मैं… Read More

समझदारी ज़रा सी

जब भी कभी किसी से जुड़ना राह में तुम भूल कर भी ना मुड़ना माना कभी कभी प्यार में हो जाता है भटकना फिर शुरू होता है तड़पना मन का उखड़ना बैचेनियों का बढ़ना दूर एक दूजे से वो रहके परेशान हो रहे थे अपनों के दर्द में वो रो… Read More

तेरी इबादत मिली

रोशनी को मेरी वो मोहब्बत मिली रहता हूँ इस जहां में और तेरी इबादत मिली रंगों में नहाई अब हर सुबह नज़र आती है तेरी खुशबू मेरी जिन्दगी को कुछ इस तरह महकाती है की तेरी इक झलक हमें जन्मों का सुकून दे जाती है बहक जाता हूँ जब तुम… Read More

प्यार करना कोई तुमसे सीखे

चोरी चोरी कोरी कोरी बातें तेरी थोड़ी थोड़ी चलती हो तुम होले होले मिश्री सी मिठास घोले हसीन मेरा हर पल हो आया कुछ कम सा था जो मैंने तुममे पाया हमें पता है वादे तुम्हारे हैं सच्चे नहीं हैं झूठे कभी कभी तुम यूँही रहते हो रूठे रूठे प्यार… Read More

मोहब्बत में हूँ

बस करो की इतना प्यार मैं कैसे संभालू एक पल को सोचू एक पल तुमको निहारूं और कुछ इसी तरह दिन रात मैं गुजारूं तेरे ख्वाबों को पूरा करने की आस्मां में पतंग सा उड़ने की कोशिश क्यूँ ना करूं जब हर पल है रंगीन तो जज्बातों में क्यूँ ना… Read More