छोटी छोटी बातों पे बिगड़ना

24 Jun छोटी छोटी बातों पे बिगड़ना

Motivational poetry

Choti choti baton pe bigadna

हर किसी ने
कहीं ना कहीं
कुछ गलत
कुछ सही
है सहा
कुछ ने कहा
कुछ ने सहा
जिक्र कही ना कहीं
सभी ने किया
ऐहतियात बरतना
नए रिश्तो की डोर है
ज़रा नाजुक है
ज़रा संभलना
एक दूजे को समझना
परायो से छुपाना
अपनों से निभाना
वक़्त का काम है गुजरना
अच्छा नहीं होता है
छोटी छोटी बातों पे बिगड़ना गड़ना

Choti choti baton pe bigadna