X

देखके तेरी तस्वीर

उन चन्द लम्हों की दरकार है
जब तुझे अपना कह सकूँ |
सच कहूँ तो उस पल को भी
तुम से बड़ी आस है |
तेरे आने का वक्त है करीब |
एस वास्ते रूह को मैं दे रहा तहजीब |
तुझसे मिलने की मैं
हर पल करता रहता हूँ मैं तरकीब |
खाली वक्त में बहला लेता हूँ मैं
खुद को देखके तेरी तस्वीर |

This post was last modified on September 9, 2017 10:33 am

Categories: Love Shayari
Alok Yadav :