X

Love poem in hindi

Hindi poetry about love

महसूस कुछ यूं किया हमने
तेरे आने पे की
जैसे ताज़ा ताज़ा
कोई कली चलके
भंवरे के पास आयी है
मोहब्बत में देखो
एक अरसे बाद
ऐसी शाम आयी है
जब दो बदन
खुल के इज़हारे मोहब्बत में
मशगुल होंगे

देखो चाँद को शरमा रहा है
इतनी खूबसूरती को सामने देख
मेरा दिल अंदर से
मुस्कुरा रहा है

आज चूमेंगे तुम्हे तुम्हारे हाथों पे
सहलायेंगे तेरे नम गालों को
खो जाएंगे
जरा संभालो जान अपने बालों को

कानो में तुम्हारे
कुछ ऐसा कह जाएंगे
शर्म में तेरे होठ
कुछ यूं सूख जाएंगे
नाम तेरे इन होठों को
हम अपने लबों से कर देंगे

प्यार की नई ऊंचाई
आज हम तुम संग छू लेंगे
मोहब्बत चीज़ क्या है
ज़माना देख लेगा
तेरे बदन पे हर कहीं
मेरे प्यार का निशान मिलेगा
थक क्व चूर चूर
जब तुम हो जाओगी
सांसो को तुम्हारी
हमारी सांसो से मिलाओगी
बंधन तेरा मेरा और
मज़बूत होगा
एक अंजह लम्हा
मुझको तुझमे शामिल करेगा
एहसास वो सात जन्मो
तक भुलाये ना भूलेगा
चरमोत्कर्ष को प्यार
हम छू लेगा
फिर भी एक दूजे को
बाहों में कसके
प्यार के समंदर में
गोते हम लगाएंगे
एहसास अपनेपन का
हम कुछ यूं कर जाएंगे
की शर्म की हर दीवार तोड़
हम एक दूजे के
हद्द से ज़्यादा करीब आएंगे

Love poem in hindi

ए मेरी प्यार की गुड़िया
तेरे चेह चहाने से
दिल के सनन्दर में मेरे
आराम होता है
दिल की धड़कनों को
हमेशा तेरा ही
इंतेज़ार रहता है

तू मेरे प्यार की
जुस्तुजू है
तेरे ख़यालों में मेरे
दिन और रात का
इम्तिहान रहता है

हवाएं तेरी और बहें
तेरी ज़ुल्फ़ों को
इस कदर छुए की
बाल तुम्हारे चेहरे पर
इधर उधर उडें
जैसे सांसे मेरी
धीरे धीरे बढ़ें

हाथों से जिस दिन
तुम हमें छू लोगी
कसम से हमारी
जान ही ले लोगी

खूबसूरती पे तुम्हारी
हम मर मिटे है
तेरी आरज़ू में हम
अपना घर भार
छोड़ चुके हैं

Love hindi poem

Ae meri pyaar ki gudiya
Tere chehre chehane se
Dil ke Samander me mere
Aaram hota hai
Dil ki dhadkano ko
Hamesha tera hi
Intezaar rehata hai

Tu mere pyar ki justujoo hai
Tere khayaalon me mere
Din aur raat ka
Imtihaan rehta hai

Hawayein teri aur bahey
Teri zulfon ko
Kuch is kadar chuyein ki
Baal tumhare chehare se
Idhar udhar udein
Jaise saansein meri
Dheere dheere badhein

Haathon se jis din
Tum hame chhoo logi
Kasam se hamari
Jaan hi le logi

Khubsoorati pe tumhari
Hum mar mite hain
Teri aarzoo me hum
Apna ghar bhaar
Chhod chuke hain

Hindi poetry Love

Mehsus kuch yun kiya hamne
Tere aane pe
Ki jaise taaza taaza
Koi kali
Chalke bhanwre ke
Paas aayi hai
Mohabbat me dekho
Ek arse baad
Aisi shaam aayi hai
Jab do badan
Khul ke izhaare mohabbat
Me masgul honge
Dekho chand ko
Sharma raha hai
Itni khubsoorati ko
Saamne dekh
Mera dil andar se
Muskura raha hai
Aaj chumenge tumhe
Tumhare hothon pe
Sehlayenge tere narm gaalon ko
Kho jayenge
Jaraa sambhalo jaan
Apne baalon ko
Kaano me tumhare
Kuch aisa keh jayenge
Sharm me tere hoth
Sookh jayege
Nam tere in hothon ko
Hum apne labo se kar denge
Pyaar ki nayi
Uchhayi aaj
Hum tum sang choo lenge
Mohabbat cheez kya hai
Zamana dekh lega
Tere badan pe har kahin
Mere pyar ka nishaan milega
Thak ke choor choor jab
Tum ho jaogi
Sanso ko hamari
Apni saanso se milaogi
Bandhan tera mera
Aur mazboot hoga

Love poem in hindi

Ek ankaha lamha
Mujhko tujhme
Shaamil karega
Ehsaas wo saat janamo
Tak bhoolaye naa bhoolega
Charamotkarsh ko hamara
pyar choo lega

Phir bhi ek duje ko
Bahon me Kaske
Pyar je Samander me
Gote hum lagayenge
Ehsaas apnepan ka
Hum kuch yun kar jayenge
Ki sharm ki har deewar
Tod hum ek duje ke
Hadd se zyada kareeb aayenge

Poetries in hindi

This post was last modified on June 2, 2019 5:36 am

" Alok Yadav : ."