Love shayari , teri mohabbat

23 Oct Love shayari , teri mohabbat

वो तेरी मोहब्बत ही है सनम
जहां हम बसेरा किया करते हैं ।
तेरी चाहत में हम जानेे
कहाँ कहाँ फिरा करते हैं ।
तुम चाहे कहीं भी रहो पर हम
तुम्हारी सलामती की दुआ किया करते हैं ।।

 

Wo teri mohabbat hi hai sanam
jahaan ham basera kiya karate hain
teri chaahat mein hum jaane kahaan kahaan phira karate hain
tum chaahe kahin bhi raho
par hum tumhari salaamati ki dua kiya karate hain