मेरी दुनिया बस तुम्ही में

17 Jun मेरी दुनिया बस तुम्ही में

इजाज़त हो जो आपकी
कुछ कहें
बस एक पल को हम आपकी
बाहों में रहे
उल्फतों में उलझने उलझ
रही हैं
मेरी दुनिया बस तुम्ही में
सिमट रही हैं
गिरफ्त की तुम्हारी
आदत हो चली है रानी
तुम्ही से तुम्ही तक है सिमटी
हम और हमारी कहानी