PUSHPA I HATE TEARS

13 Jun PUSHPA I HATE TEARS

कहना कुछ भी हम तो जी रहे हैं हर पल |
जानता कुछ नहीं स्वाभाव से थ वो सरल |
प्यार कब हमारे जीवन का हिस्सा हो गया |
उनका हर किस्सा मशहूर हो गया |
चन्द पलों म वो दास्तान यूँ बयान कर जाते थे |
हर तरफ खिलखिलाते चेहरे नज़र आते थे |
खुद पर जिसने ऐतबार ककया |
उसे खुदा ने कभी ना नज़रअंदाज़ किया |
काका की कहानी हमें तुम्हे सुनानी थी |
पहले सुपरस्टार की बात दोहरानी थी |
PUSHPA I HATE TEARS .
KAKA YOU ARE OUR DEAREST DEAR .