प्यार की नय्या

13 Jun प्यार की नय्या

फूलों की क्यारी , क्या देखती है प्यारी |
तेरे मन में जो जागी है खुशहाली |
उससे महकी दुनिया सारी |
आँगन में तेरे जो बैठी है चिड़िया प्यारी |
उसकी चहक तुने अपने जीवन में उतारी |
मेरी मनमोहिनी , इक तेरे ही भरोसे ,
अपनी प्यार की नैय्या , मैनें समंदर में उतारी |