X

रूठना मना हैं

यह तुझे नहीं हैं पता ,
मैंने कब – कब तुझे अपने कहा |
तू हर पल मेरे साथ है |
तू मेरे रूह की पहचान है |
तुझसे रूठकर जाऊंगा कहाँ |
ढेर सारा प्यार लुटाऊंगा कहाँ |

This post was last modified on September 9, 2017 10:34 am

Categories: Love Shayari
Alok Yadav :