तेरे संग – संग

13 Jun तेरे संग – संग

तेरे संग-संग जिन्दगी के तरानों में घुल रहा हूँ |
तेरी गोद में रख अपना सर में तुझमे खो रहा हूँ |
करके तुझे खुद में शामिल
जन्नत का मज़ा ले रहा हूँ |
तुझसे मिलने को हर पल बेक़रार ,
तुझे अपनी बाँहों में लिए, खुद ही को जी रहा हूँ |