पढो विवेकानंद और ओढो उनके विचार

13 Jun पढो विवेकानंद और ओढो उनके विचार

सुनोगे उस नोजवान की दास्तान ,
जिसने हमको डर से लड़ना सिखाया था |
डर किया है कुछ भी तो नहीं ,
हमें अच्छी तरह समझाया था |
सिंघनाद कर आगे बढ़ो ,
उठो, जागो और कुछ तो करो |
भक्त बनो पर कर्म भी तो करो |
यह पाठ पढाया था |
शिक्षा के सही अर्थ को सिखलाया था |
चरित्र निर्माण को सर्वोपरी बताया था |
कितने ही युवको के प्ररक थे वो ,
भगत , सुभाष , अरविन्द घोष
के विचारो के आधार |
उनसे प्रेरणा ले चुके जाने
कितने कलेक्टर बेमिसाल |
कुछ बनना चाहते हो जो
तो जानलो एक बात |
करो खुद पर विश्वास
और आगे बढ़ कर ,
बढाओ दूजे के लिए हाथ |
पढो विवेकानंद को
और ओढो उनके विचार |