Shayari Ki Dukaan :- 2018 Best hindi shayari blog in India - Shayari ki Dukaan
14869
home,paged,page-template,page-template-blog-large-image-simple,page-template-blog-large-image-simple-php,page,page-id-14869,paged-26,page-paged-26,,qode-title-hidden,qode-theme-ver-9.1.3,wpb-js-composer js-comp-ver-4.11.2.1,vc_responsive
June 17, 2017

वहीं तो रचा बसा होता हैं

बेदहसाब किताबे पढ़ कुछ कलमे गढ़ अनजानो ने सराहा कभी कभी मलिते मलिते वो पा जाते हैं दोराहा उन्हें भाता है रिश्तो का चोराहा मलिने की आड़...

June 17, 2017

दिल की दरख्वास्त

इस रूह का एक ही मकसद इश्क में जियें इश्क में खिलें इश्क में उडें इश्क में डाले एक दूजे की बाहों में बाहों के हार नज़रों...

June 17, 2017

मेरी आह निकल रही

कशिश तेरी आखों की मेरे दिल में यूँ जगह कर रही दबी जबान से जैसे मेरी आह निकल रही मुस्कान तुम्हारी होठों पर कुछ यूँ बिखर...