Shayari Ki Dukaan :- 2018 Best hindi shayari blog in India - Shayari ki Dukaan
14869
home,paged,page-template,page-template-blog-large-image-simple,page-template-blog-large-image-simple-php,page,page-id-14869,paged-37,page-paged-37,,qode-title-hidden,qode-theme-ver-9.1.3,wpb-js-composer js-comp-ver-4.11.2.1,vc_responsive
June 13, 2017

PUSHPA I HATE TEARS

कहना कुछ भी हम तो जी रहे हैं हर पल | जानता कुछ नहीं स्वाभाव से थ वो सरल | प्यार कब...

June 13, 2017

एक पैगाम है…….

बेहतरी को तेरी एक पैगाम है | बरसों बाद तुम्हे देख हम हैरान हैं | तुम वो  नहीं जो किसी के रोके...

June 13, 2017

आओ इंसानियत सिख ले

किस्मत भी क्या - क्या खेल  खिला रही | रोते हुए को हंसा रही | कहीं जख्मों पर मरहम लगा रही I अन्जाने...