X

मंजिल मिल चुकी थी

जाने अनजाने किसी से गुफ्तगू कर ली फिर… Read More

बंधन में बंधे हैं

काजल से सजी आँखों में नज़रें तुम्हारी कुछ… Read More

मेरा मैं न जाने कहाँ चला गया

देखना उन्हें चाहते हो जो देख नहीं सकते… Read More

इश्क की इन गलियों में

जिन गलियों से गुजरने की ख्वाहिश लिए चले… Read More

ऐसी दूरी सह न पाएंगे

इंतज़ार की इंतज़ार करते करते इन्तेहाूँ हो गयी… Read More