Shayari Ki Dukaan :- 2018 Best hindi shayari blog in India - Shayari ki Dukaan
14869
home,paged,page-template,page-template-blog-large-image-simple,page-template-blog-large-image-simple-php,page,page-id-14869,paged-48,page-paged-48,,qode-title-hidden,qode-theme-ver-9.1.3,wpb-js-composer js-comp-ver-4.11.2.1,vc_responsive
June 13, 2017

तेरे संग – संग

तेरे संग-संग जिन्दगी के तरानों में घुल रहा हूँ | तेरी गोद में रख अपना सर में तुझमे खो रहा हूँ...

June 13, 2017

कहानी अनसुनी सी

स्याही जब कागज़ को छूती है , कुछ तो कहती है , कागज़ को रंगीन करती , अपनी पहचान बनाती | शायद कागज़...