X

निर्मल बाबा की कृपा का नूर

यह वहाँ जहाँ भी जाऊंगा | खुद को भूल नहीं पाउँगा | कितना सच्चा कितना झूठा हूँ | कहने से डरता हूँ | जीवन की कसौटियो पर खुद को परखना आसान नहीं | यह जीवन  सिर्फ  सुबह शाम  नहीं | मंजर बदल जाते हैं कुछ पाने की चाह में |… Read More

ये एहसास नया नया है

एहतियात बरतते हैं की रिश्ता नया नया है | दो ज़हान के मिल ने का सिलसिला नया नया है | पल भर को चैन नहीं य वक्त ज़ुदा ज़ुदा है | खुद ही में सिमट जाने का | दुनिया को भूल जाने का | ये एहसास नया नया है | Read More

उम्मीदों की बरखा

नज़दीकियाँ हमारी | दूर कर रही , बैचेनियों को हमारी | प्यार के संग -संग उठ रही एक तरंग | जैसे तू डोर मैं पतंग | शीतल काया तेरी , मेरे मन को मोह रही | उम्मीदों की बरखा में जैसे भीगो रही | Read More

चुरा लू तुम्हे तुम्ही से

कोशिशो को मेरी राहत है | तू मेरी बरसों की चाहत है | तू खूब , खूब तेरी नज़ाकत | तू नूर , खूब तेरी शराफत | हमको मंज़ूर तेरे ख्वाबों की हिफाज़त | चुरा ले हम तुम्ही को जो तुम दो इज़ाज़त | Read More

तेरे बिना खुद को अधूरा पाया

तेरी खामोशियाँ जवाब हैं , उन सवालों का | तेरी मजबूरियाँ जवाब हैं , उन सवालों का | जो पूछ रही थी मेरी सुबह - शाम | तरस आता है खुद पे याद करूँ ज वो शाम | प्यार से तेरे सबूत मांग रहा था | मासूमियत को तेरी लाचारी… Read More