बेवफ़ा शायरी

14 Jan बेवफ़ा शायरी

Bewafa shayari in hindi for girlfriend 140 words

Bewafa shayari in hindi

 

Bewafa shayari in hindi

 

Bewafa shayari in hindi

 

Bewafa shayari in hindi

 

Bewafa shayari in hindi

 

Bewafa shayar in hindi

 

Bewafa shayar in hindi

 

Bewafa shayar in hindi

Bewafa shayari

बेवफ़ाई का आलम
यह है कि

अब सवेरा तो होता है
पर दिल का चिराग़
बुझा ही रहता है

फूल तो खिलते हैं
पर चमन उजड़ा
सा दिखता है

हम हंसते हैं मगर
खिलखिलाना भूल गए
कुछ ऐसा लगता है

रोज़ चाँद देखते हैं
फिर भी जीवन
में सब काला काला
दिखता है

बैचेन पहले भी होते थे
पर अब सब
उजड़ा उजड़ा दिखता है

समझा किया था
जिसे प्यार कभी
आज वो
छलावा से लगता है

भूले नहीं हम
पहली मुलाकात

यह दिल आज भी
जीने की वजह
महफिलों में
ढूंढा करता है

 

——————————–

 

Bewafai ka aalam
Ye hai ki

Ab savera to hota hai
Par dil ka chiraag
Bujha hi rehata hai

Phool to khilte hain
Par sab ujada sa
dikhta hai

Hum hanste hain
Magar khil khilana
bhool gaye
Kuch aisa lagta hai

Roz chand dekhate hain
Phir bhi jeevan me
Sab kala kala
Dikhta hai

Bechain pehale
bhi hote the
Par ab sab ujada ujada
Dikhta hai

Samjha kiya tha
Jise pyaar kabhi
Aaj wo
Chhalava sa lagta hai

Bhoole nahi
Hum pehali mulakaat

Yeh dil aaj bhi
Jeene ki wajah
Mehfilon me
Dhoondha karta hai

 

बेवफा शायरी

 

क्यों तलाश है
मुझे आज भी तेरी ।
क्यों आज भी है तू
अरदासों में मेरी ।।
कैसे भुलाएं
हम बेवफ़ाई को तेरी -2

———————————

हसरत तेरे संग
गुनगुनाने की थी
हसरत तेरी बाहों में
झूल जाने की थी
पर रुसवाई की तेरी
हमे इल्म ही ना थी

——————————-

Kyun talaash hai
Mujhe aaj bhi teri
Kyun aaj bhi hai
Tu ardaason me meri
Kaise bhulaye hum
Bewafai ko teri

————————————-

Hasrat tere sang
gungunane ki thi
Hasrat teri bahon me
Jhool jaane ki thi
Par ruswai ki teri
Hame iilm hi naa thi

 

bewafa shayari in hindi for girlfriend 140 words

रुक जा ए संगदिल
अधूरी है तेरे बिना
हमारे प्यार की मंजिल

———————————

Ruk ja ae sangedil
Adhuri hai tere bina
Hamare pyar ki manzil

————————————-

डोली में लेके जाएंगे
सोचा करते थे
क्या पता था
एक रोज
आप हम ही से
आंखें चुरायेंगे

————————-

Doli me leke jayenge
Socha karte the
Kya pata tha
Ek roz
Aap hum hi se
Aankhein churayenge

————————————–

प्यार में तेरे
सब कुछ भुला बैठे
हम तो तुझको
अपना खुदा मान बैठे
मगर दिल मे तुम्हारे
कोई और बसा है
ये खुदा की कैसी रजा है

———————————

Pyar me tere sab
kuch bhula baithe
Hum to tujhko
Apna khuda
maan baithe
Magar dil me
Tumhare koi aur
Basaa hai
Ye khuda ki
Kaisi rajaa hai

—–—————————–

थक गए है सनम
तेरा इंतेज़ार करते करते
सदियां गुजर गई
यूँही आहें भरते भरते

————————————-

Thak gaye hain sanam
Tera intezaar karte karte
Sadiyaan gujar gayi
Yunhi aahein bharte bharte

————————————-

Mohabbat me the
Hum bhi kabhi
Par zikra kabhi
Kisi se kiya nahin
Kyunki bewafai ko uski
Main kabhi bhoola hi nahin

————————————–

मोहब्बत में थे
हम भी कभी
पर ज़िक्र कभी
किसी से किया नही
क्योंकि बेवफ़ाई को उसकी
मैं कभी भूला ही नहीं

————————————

Jab jab teri yaad
Aati hai
Bewafai teri
Aankhon se meri
Beh jati hai

————————–

जब जब तेरी याद
आती है
बेवफ़ाई तेरी
आंखों से मेरी
बह जाती है

Alok Yadav
kumaryadavalok@gmail.com
No Comments

Post A Comment