दर्द भरी शायरी

10 Feb दर्द भरी शायरी

Dard bhari shayari

Dard bhari shayari in hindi font 140

दिन दर्द हैं
रातें सर्द हैं
यादें तुम्हारी
बड़ी खुदगर्ज हैं
भीड़ में भी
मुझको जकड़ लेती हैं
बेचैन कर मुझको
झकझोर देती हैं

 

—————————

 

आंखें आँसूं पी पी के चुप हैं
गला रो रो के गमगीन है
दिल का हाल
यह दिल कैसे सुनाए
मन का राग
दर्द में तल्लीन है

 

—————————

 

 

अब तो समंदर के किनारे भी
घूर घूर के हमे देखा करते हैं
तुम कहाँ गयी
यह सवाल बारम्बार पूछा करते हैं

 

—————————

 

 

चुप रहना हमे पसंद नहीं
पर हमारी सुनने को
तुम्हारे पास वक्त ही नहीं

 

—————————

 

 

मिलता नहीं सभी को
इश्क़ में फूलों का गुलदस्ता
कुछ हैं जो कांटों को
अपना खून पिलाया करते हैं

 

—————————

 

 

मयखाने में जाना
हमे बिल्कुल पसंद नहीं
पर तेरे दीदार को
हम हर दीवार को
तोड़ आया करते हैं
—————————

 

पीना भी हमें
तूने ही सिखलाया था
जिस दिन ज़िन्दगी के दोराहे पे
तुमने हमे कसूरवार ठहराया था

 

————————————–

तुझको चाहना भूल थी मेरी
कैसे यह खुद से कहूं
तुझे पता था
तू मजबूरी है मेरी
कैसे यूँ तन्हा रहूं

––————————————-

 

Dard bhari shayari

 

Dard bhari shayari

 

Dard bhari shayari

 

Dard bhari shayari

 

Dard bhari shayari

 

Dard bhari shayari

 

Dard bhari shayari

 

Dard bhari shayari in hindi font 140

 

Din dard hain
Raatein sard hain
Yaadein tumhari
Badi khudgarj hain
Bheed me bhi
mujhko jakad leti hain
Bechain kar mujhko
Jhakjhor deti hain

—————————————

Aankhein aansoon
pee pee ke chup hain
Galaa ro ro ke
gamgeen hai
Dil ka haal
yeh dil kaise sunaye
Man ka raag
dard me talleen hai

—————————————-

Ab to samander
ke kinaare bhi
Ghoor ghoor ke hame
dekha karte hain
Tum kahaan gayi
Yeh sawal barambar
Poocha karte hain

————————————–

Chup rehna hame pasand nahin
Par hamari sunane ko
Tumhare paas waqt hi nahin

————————————–

Milta nahin sabhi ko
Ishq me
phoolon ka guldasta
Khuch hain jo
kaanton ko Apna khoon
pilaya karte hain

—————————————-

Mehkhane me jana
Hamein bilkul pasand nahin
Par tere deedar ko
Hum har deewar ko
Tod aaya karte hain

———————————–

Dard bhari shayari in hindi font 140

Peena bhi hamein
tune hi sikhlaya tha
Jis din zindagi ke
dorahe pe
Tumne hamein
kasoorwar tehraya tha

————————

tujhako chaahana bhool thee meree
kaise yah khud se kahoon
tujhe pata tha
too majabooree hai meree
kaise yoon tanha rahoon