वक़्त भी कर्मो के अधीन

24 Jun वक़्त भी कर्मो के अधीन

ना डरे
बस करे
वो जिसपे हमें यकीन है
क्यूंकि………..
वक़्त भी कर्मो के अधीन है
जिक्र जब ही से करने लगेंगे
अपनी परेशानियों का
फिक्र नहीं, निभाने लगेंगे
फ़र्ज अपनी जिम्मेदारियों का
फिर धीरे धीरे जीवन संवरने लगेगा
मंजिल दूर ही सही
पर रास्ता सुनहरा बन पड़ेगा