बजरंग बली की शायरी

28 Sep बजरंग बली की शायरी

Hanuman ji ki shayari

बजरंग बली के भक्त हैं
इरादों के सख्त हैं

डर क्या है
आज उसे कोसों
दूर भगाएंगे
अपने कर्मों से
अपनी मंज़िल को पाएंगे

चलते चलते अपनी राहों को
उनकी दिशाओं से मिलाएंगे
माना राहों में कांटे बहुत आएंगे
चुन चुन कर उन्हें
तन्हाइयों के हवाले कर आएंगे

मस्ती में हर कदम लहरायेंगे
सफर का अंत तलक आनंद उठाएंगे

राम भक्त हनुमान के चरणों मे शीश झुकायेंगे
केसरी नंदन की तरह
संयम को अपनाएंगे
बेवजह हर कहीं
अपनी ताकत ना आजमाएंगे
अंजनी पुत्र की भांति
राम नाम जप जप कर
कलयुग में भी
इस जीवन को सार्थक बनाएंगे

 

Bajrang bali ki shayari

 

bajarang balee ke bhakt hain
iraadon ke shakht hain
dar kya hai aaj use koson door bhagaenge
apane karmon se apanee manzil ko paenge
chalate chalate apanee raahon ko unakee dishaon se milaenge
maana raahon mein kaante bahut aaenge
chun chun kar unhen tanhaiyon ke havaale kar aaenge
mastee mein har kadam laharaayenge
saphar ka ant talak aanand uthaenge
raam bhakt hanumaan ke charanon me sheesh jhukaayenge
kesaree nandan kee tarah sanyam ko apanaenge
bevajah har kaheen apanee taakat na aajamaenge
anjanee putr kee bhaanti raam naam jap jap kar
kalayug mein bhee is jeevan ko saarthak banaenge