कुछ कुछ होता है

05 Jan कुछ कुछ होता है

shayari to express love

Shayari to  express love

Shayari to express love

 

 

Shayari to express love

 

shayari to express love

shayari to express love

बहक जाने दो आज
यूँही पिघल जाने दो
गरम साँसों में तुम्हारी

ख्वाहिश है मेरी
निकले दम
बांहों में तुम्हारी

चाहत तो इतनी भर थी
की लबों को तुम्हारे चूम लेते
इन अधरों के संग
खुशी में
दो पलों को झूम लेते
वक़्त हमदर्द बना
तेरे प्यार में हमने
क्या क्या ना सहा

 

————————-

 

मस्ती बेदर्दी हो चली
बातों बातों में
मोहब्बत की हवा बह चली

 

—————————-

मस्ती बेदर्दी हो चली
बातों बातों में
मोहब्बत की हवा बह चली

 

shayari to express love in hindi

 

रहना चाहता हूँ
पलको में तुम्हारी
महसूस करना चाहता हूँ
खामोशियों को तुम्हारी
तुम्हारे दिल मे
जिस तरह लिखा मेरा नाम है
ठीक उसी तरह
हमें भी तुमसे प्यार है
सुकून इस तन्हा दिल को
तेरी यादों से ही आता है
कुछ इस तरह ये दीवाना
तुम्हे पागलों सा चाहता है

 

shayari to express love to wife

 

बाहर बालकनी में पड़ा अखबार
जाने कितनी कहानियां था
खुद में समेटे हुए

और यहां मन मे उठते
रहते हैं जाने कितने विचार
कुछ अच्छे , कुछ गमगीन
सपनों को सहेजे हुए

—————————————-

बाहर मौसम कोहरे से
गुलज़ार है पर इतनी ठंड में
हमे तो सिर्फ चाय की प्याली
का इंतज़ार है
क्योंकि तुम्हारे हाथों में
जादू आज भी बरकरार है

————————————

चाय की चुस्की के संग
कुछ गैर जरूरी खबरें भी
हलक से नीचे उतर जाएंगी
हमे तेरी याद
और कितना तड़पायेगी

 

Romantic shayari in hindi for girlfriend latest , Shayari video main , Romantic shayari in hindi for girlfriend 100 words , Love shayari in hindi for girlfriend latest, Love Shayari in Hindi for Girlfriend 140 words , Love Shayari in Hindi Font, Hindi Love Shayari, New Love Shayari 2017, Shayari on Love, Shayari for Love, Love Shayari for Girlfriend Boyfriend, GF BF, Husband Wife, Latest Love Shayri, Funny Love Shayari, Romantic Love Shayari, Love hindi shayri, Love Shayri, Love Shayri hindi.

 

मोहब्बत ही मोहब्बत है
फिज़ाओ में बिखरी हुयी

मेहबूब के कदमों में
मेरी ख्वाहिशें हैं
सिमटी हुई

की आएंगे वो कभी
मेरे गरीबखाने में
इसी ख्वाब में है
मेरी ज़िंदगी
जकड़ी हुई

 

——————————–

 

इश्क़ के फितूर से
खुद को जो अलग किया

मैं मैं ना रहा
जैसे जिस्म से
जान को जुदा किया

——————————–

महफ़िल रोशन
तेरे ही कदमों से होगी
ए हुस्न ए मल्लिका

हम कब से तेरी
याद में चराग़
जलाए बैठे हैं

———–———————
ए मेरे यार तुझे याद ना करें
हमसे ना होगी ऐसी ख़ता

ना कहना कि हमसे प्यार नहीं
वरना हम भूल बैठेंगे
अपना ही पता

——––———————-

तेरी यादों में
मेरा हर लम्हा गुजरता है
प्यार तेरा पाने को
इस दीवाने का दिल
कयामत में भी धड़कता है

—–—————————

बेज़ुबान हम हुए
इश्क़ में फना हम हुए
फिर भी
तेरे होठों पे मुस्कान थी

लगा जैसे मोहब्बत हमारी
खुदगर्ज़ी की पहचान थी