Aashiq Sher ki shayari

03 Oct Aashiq Sher ki shayari

Sher ki shayari hindi me

 

हसरतो को मेरी जानम
तेरी आशिकी मिली है
कैसे कहूँ की कितनी
मन्नतो से तू मिली है
हसरतो को मेरी जानम
तेरी आशिकी मिली है
कैसे कहूँ की कितनी
मन्नतो से तू मिली है

बिछड़े थे हम जहां पे 2
मजबूरियां बसी हैं
कैसे कहूँ की कितनी
मन्नतो से तू मिली है

देखो मेरी नज़र में 2
आंखें आज भी सूजी है
तुझे पाने की खातिर
जाने कितनी रात जगी हैं 2
कैसे कहूँ की कितनी
मन्नतो से तू मिली है

———————————

जी हमने कहा छोड़ो भी
कितना बोलते हैं
जहां जरूरत नही
वहां क्यों मुँह खोलते हैं

——————————–

सामने रखा है तो
जरूरी नही अपना ही होगा
हो सकता है
कोई तुम्हे शरीफ समझ
किसी काम को गया होगा

—————————————-

चीखना चिल्लाना शौक हो चला है
पल पल मरना जिन्हें मंज़ूर हो चला है
वो चीखते हैं ऐसे की
ख़तागार हम हैं
अब तो दुनिया भी
मान चुकी की
गुनहगार हम है

——————————

कैसे समझाए की
समझ उनकी कमजोर है
क्योंकि वो सोचते हैं कि
हम कमजोर हैं।

birthday wishes

good morning shayari

love shayari

hindi shayari

Attitude status

2 line shayari

1 line shayari

Shayari

Diwali wishes

jai sri ram

Sher ki shayari

 

hasarato ko meree
jaanam teree aashikee milee hai
kaise kahoon kee
kitanee mannato se too milee hai
hasarato ko meree jaanam teree aashikee milee hai
kaise kahoon kee kitanee mannato se too milee hai

bichhade the ham jahaan pe -2
majabooriyaan basee hain
kaise kahoon kee
kitanee mannato se too milee hai

dekho meree nazar mein-2
aankhen aaj bhee soojee hai
tujhe paane kee khaatir
jaane kitanee raat jagee hain -2
kaise kahoon kee
kitanee mannato se too milee hai

———————————

jee hamane kaha chhodo bhee
kitana bolate hain
jahaan jaroorat nahee
vahaan kyon munh kholate hain

——————————–

saamane rakha hai to
jarooree nahee apana hee hoga
ho sakata hai koee tumhe shareeph samajh
kisee kaam ko gaya hoga

—————————————-

cheekhana chillaana shauk ho chala hai
pal pal marana jinhen manzoor ho chala hai
vo cheekhate hain aise kee khataagaar ham hain ab to duniya bhee maan chukee kee
gunahagaar ham hai

——————————

kaise samajhae kee
samajh unakee kamajor hai
kyonki vo sochate hain ki
ham kamajor hain