X

children’s day 14 november

Hindi poem on children’s day

a children's day speech , a poem on children's day , children's day thought , children's youth day poems , children's day 14 november , children's day 14 november speech , children's day 14 november speech in hindi , 2 minutes speech on children's day , children's day 5 lines in hindi , 5 lines on children's day in india children's day poems in hindi हर दिन कुछ खास होता है पर आज का दिन बहुत खास है क्योंकि आज है childrens day Children's day 5 lines in hindi बचपन का प्यार , उस वक्त के यार , टोलियों में टहलते थे , जब हम सब बाज़ार , होली के रंग में हफ्ते भर पहले ही डूब जाया करते थे , दीवाली के धमाकों से मोहल्ले और स्कूल में रौनक बिखेरा करते थे , नए नए कपड़े पहनने का शौक रखते थे , tailor की दुकान पे दिन में चार चक्कर लगा कपड़े सीले की नहीं पूछ आया करते थे , हफ्ते भर की मिठाई दोस्तों संग एक ही दिन में साफ कर दिया करते थे ।   a children's day speech , a poem on children's day , children's day thought , children's youth day poems , children's day 14 november , children's day 14 november speech , children's day 14 november speech in hindi , 2 minutes speech on children's day , children's day 5 lines in hindi , 5 lines on children's day in india     A poem on children's day बचपन मे हमसे हमारे parents भी कुछ यही expect किया करते थे हमे हमारे खेलने कूदने की उम्र में ज्यादा ज्ञान की बातें ना पेला करते थे Competition की आग में दिन रात ना झोखा करते थे प्यार करते थे वो हमसे , तभी तो fail हो जाने पर भी नकारा ना समझा करते थे , हम बच्चे हैं वो समझते थे , तभी तो छोटी छोटी बातों पे वो ना बिगड़ते थे । a children's day speech , a poem on children's day , children's day thought , children's youth day poems , children's day 14 november , children's day 14 november speech , children's day 14 november speech in hindi , 2 minutes speech on children's day , children's day 5 lines in hindi , 5 lines on children's day in india childrens day poems in hindi   हम मार मार के किसी को आइंस्टीन नहीं बना सकते ये भूल जाते हैं , स्पोर्ट्स में कुछ कर जाए इसी कारण से उन्हें Race का हिस्सा बनाते हैं , वो क्या चाहते हैं बस यही पूछना हम भूल जाते हैं । Society वाले क्या कहेंगे इसी सोच में अपना और अपनों का भविष्य हम दाव पर लगाते जाते हैं । Read More