my love Tag

24 Jun

प्यार में शक न करना

कुछ सपने हमने भी देखे
कुछ अपने भी हमने देखे
कुछ सपने थे अपने तो
कुछ अपनों के भी थे सपने
कुछ के सपने टूट गए
जब उनके उनसे रूठ गए
रूठना मनाना
हर बात खुल कर कह जाना
कुछ ऐसा ही होता है
प्यार मे डूब जाना
कुछ ने अपनों के संग थे सपने सजोये
बिखर जाने पे वो भी रोये थे
कई कई रात नहीं सोये थे
कुछ वक़्त खुद ही के संग जो गुजारा
कहने लगे खुद ही से
प्यार में शक न करना दोबारा

17 Jun

जब साथ रहेंगे

जब साथ रहेंगे

चुप ना रहेंगे

कुछ भी कहेंगे

रात भर जगेंगे

दिल की सुनेंगे

जागती आँखों से

सपने हम बुनेंगे

हर ताल पे थिरकेंगे

दिल हमारे कुछ

यूँ ही धडकेंगे

जब साथ रहेंगे

भला हम तुम

फिर कययूँ तड़पेंगे

15 Jun

साया हूँ मैं

कलमा तेरे इश्क में
लिखने की ख्वाहिश लिए
आनंद में हैं………..
मत पूछो की
हम तेरी चाहत में हैं
जाने कितने सपनो को
सपना बनाया
पर एक तू ही है
जिसे सपनो में भी अपना पाया
साया हूँ में
भूल बैठा हूँ अपनी काया

15 Jun

आरज़ू बस इतनी की

नजाकत ऐसी की
मुस्कुराहत पे तुम्हारी
हो जाएूँ हम निसार
इश्क में तेरे
हसरत ऐसी की
भूल जाएँ अपना हर अरमान
मोहब्बत में तुम्हारी
आरजू बस इतनी की
बन जाएँ एक बेहतर इंसान

15 Jun

तुम्हारी हस्तियाँ

फिरंगी हैं तुम्हारी
अदाओ की मस्तियाँ
कल कल करती बहती
तुम्हारे नैनो की कश्तियाँ
कुछ और ही हैं
ये बस्तियां
तुम्हारा इश्क
तुम्हारी हस्तियाँ
हमारी महफ़िल में
जहां बसती थी खामोशियाँ
आज यहाँ भी बसती हैं
प्यार की गुस्ताखियाँ

15 Jun

तेरे चेहरे का नूर मेरी आखों में

तेरे चेहरे का नूर मेरी आँखों में
इस कदर बस चुका है
की पूनम का चाँद जैसे
मेरे जीवन में सज रहा है
होश कब कैसे बेकाबू हो रहे
हम तुम्हारी अदाओं के
कायल हो रहे
जब भी हम तुम्हारे
ख्यालों में खो जाते हैं
वक़्त बेवक़्त तेरी यादों
की उलझनों में बिखर से जाते हैं

15 Jun

लिखने मे भी आनन्द कहाँ आता है

आप कि खातिर
आप कि कसम
कहने को हम जी रहे है
पर तुमसे मिलने कि
आस मे तड़प से रहे है
वक़्त वो पल भर मे गुजर जाता है
जिस पल मे तुम्हारा साथ घुल जाता है
और सुनो रानी तुम पास ना हो तो
लिखने मे भी आनन्द कहा आता है

12 Jun

दस्तक तेरे आने की

तेरी यादो के झरोखे हर तरफ |

हमारी मोहब्बत के चर्चे हर तरफ |

हम और तुम अब हुए हम -तुम |

तेरे आने की दस्तक सुनी है जब से |

हम खुद ही के काबू में नहीं हैं तब से |

12 Jun

रास आया तेरा आना

Romantic shayari

Raas aayaa tera aanaa

तूफानों में घिरा था, खुद ही को भूल चला था |
भंवर में फंसा था |
रास्ता जो मिला, वो भी पत्थरीला था |
वहीँ दूर एक घड़ा था, वो भी प्यासा घड़ा था |
तभी कहीं दूर से एक महक सी आई |
कुछ गुनगुनाने की आवाज़ सी आई |
जब से तुम आई |
नहीं रही मेरे जीवन में तन्हाई |

Raas aayaa tera aanaa