my story Tag

22 Jun

रहती हो हमारी धडकनों में

शरारती हो अंदाज-ए-बयान
और पूछे वो रहते हो कहाँ
बेझिझक पर्दा शर्म का उठाओ
और कहदो ज़रा सूरत तो दिखलाओ
आइना हमारी आँखे बन जाएगी
जब भी तुम बन संवर
झूठ झूठ इतराओगी
जब बिच्देंगे हम तुम
कल कब मिलोगी
यह जरुर बतलाओगी
बेहिसाब बारिश के मौसम में
इन्रधनुष सी खिलखिलाओगी
कया मुझसे ये वािे निभाओगी
रहती हो हमारी धडकनों में
कल तुम सब को बतलाओगी

22 Jun

महसूस हमने किया

सामने तुम्हारा हैं बैठे
कुछ दिल में है
पर यूँ ही कैसे कहते
तुम बेसब्री से इंतज़ार में डूबी हो
तुम हर पल मेरी बातों में गूंजी हो
जानकर हैरान हो रही
झूठ मूठ आँख मूँद सो रही
अपने ख्यालो में
कुछ अनसुलझे सवालों में
जबसे हमें शामिल है किया
नजदिकियाँ होती हैं कया
महसयस हमने किया

22 Jun

आओ बीती बातों को

मिठास जो मेरी बोली में होती
मेरे और उसके कदमो के बीच
में इतनी दूरी ना होती
जब जब अपनी पलके उठाती
मुझे अपने सामने पाती
बस इतना सा ख्वाब ही तो वो
दिन भर अपनी आँखे में है सजाती
तो फिक्र क्यूँ औरों की करें
जब जिक्र हम तुम
आपस में कया करें
आओ बीती बातों को
हम रफा दफा करें

22 Jun

बेटियों के चूड़ियों की खनक

एक ऐसी हस्ती
जो कर रही है मस्ती
वो जो दिल में है बसती
वो जो हर फकसी को है जचती
उसे देखने को हर
किसी की आँखे तरसती
उसके मीठे मीठे बोल
बातें गोल गोल
कदमो से उसके
घर में रौनक सी आ गयी
हर किसी के दिल को वो भा गयी
हमें पुकार रही
बेटियों के चूड़ियों की खनक
वही तो हैं
हमारे जीवन की जनक

22 Jun

सपनो में अपनों को

अपनों को अपनों की
सपनो को सपनो की
अपनों के सपनो को
सपनो में अपनों की
इतनी सी ख्वाहिश को
पूरा करने को
अपनों की इजाज़त की
रब की इबादत की
बस एक चाहत की
और एक कदम बढाने की
जरुरत महसूस जो करो
तो सपनो में अपनों को
शामिल किया करो

22 Jun

मंजिल मिल चुकी थी

जाने अनजाने
किसी से गुफ्तगू कर ली
फिर बातों बातों में
दोस्ती कर ली
प्यार के रंग में डूबे जा रहे थे
कसमे -वादे निभाना चाह रहे थे
दोनों अपनी ही बस्ती में खुश थे
भीड़ में थे पर वो गुम थे
हर पल में उनके एक अजब सी
मस्ती घुल चुकी थी
शायद दोनों को अपनी अपनी
मंजिल मिल चुकी थी

22 Jun

बंधन में बंधे हैं

काजल से सजी आँखों में
नज़रें तुम्हारी
कुछ ऐसी सज रही हैं
की कह रहे हैं कुछ
और आप हैं की कुछ
और ही समझ रही हैं
बंधन में बंधे हैं
जहा नियम बड़े कड़े हैं
तेरे इंतज़ार में ना जाने
कब से यही खड़े हैं

17 Jun

I Care

I dare
I share
B’coz God makes us a pair
No tear
Just me and my dear
A relation
That we share
Nothing in doubt
Everything between
Us is so clear

17 Jun

The way you love

The way you share
The way you hold me
Shows that you follow
your heart
The way you talk
The way you walk
The way you lighten my dark
Shows how much you love
your better half.
Why not everyone got married
Life after marriage is really cherished.