new Tag

16 Aug

अपने प्यार की खातिर

Romantic shayari

New shayari status

अपने प्यार की खातिर

मैं निकल चुका था

जिन्दगी की धुप-छाँव में

बिखर चुका था

इरादों को सहेजने की खातिर

टूट चुका था

अंदाज मेरे कुछ

जुदा जुदा ही थे

शायद उस पल को मेर संग

खुदा ही थे

प्रेरणा जीने की

सपनों की इमारत

खड़ी करने की

जिद्द जाने कहाँ से आयी

रूकावटो की हद भी

हमने दूर भगायी

पाने तुम्हे निकले थे

नसीब में हमें मिली खुदायी

जिन्दगी रोशन हुई

हमारे प्यार को मिली गहरायी

 

New shayari status

 

हम मस्त कलंदर

एक नग

जो नथनी बना बैठा है

काजल से तुम्हारी ऐठा ऐठा है

कंगन भी कुछ कम नहीं

पहला दूजे से रूठा बैठा है

पायल भी तुम्हारी

याद में हमारी

गा रही क़वाली

मेरी मासूम कली

मिश्री की डली

रूठो न यूँ की सूना सूना सा

हो जाता है मंजर

ज़रा हंस भी दो की

हो जाये हम मस्त कलंदर

हमारी जहाँआरा

New shayari status

महसूस कुछ यूँ किया है

पी रहा हूँ अमृत

जिसका जिक्र हमने आज

पहली ही दफा किया है

अब जैसे हर पल  को

खुल के जिया है

किस्सा कुछ ऐसा ही है हमारा

हिस्सा हो चुके हैं हम तुम्हारा

बड़ी खूबसूरत है हमारी जहाँआरा

आदतें हमारी तुम पहचानती हो

तसवीरें बोल पड़ेंगी

तकदीरें जाग उठेंगी

बजने लगेंगी शेहनाईयां

लुट जाएँगी तनहाइयाँ

जब जब नज़रें तुम्हारी

हम से मुलाकातें करेंगी

आदतें हमारी तुम पहचानती हो

दूरियां हैं क्यूँ यह भी जानती हो

और क्या चाहे खुद से

जब तुम हमें अपना मानती हो

हीर राँझा काअवतार हो

New shayari status

जो इश्क में हैं होते

वो वक़्त को जाया

यूँही नही किया करते

जहां से हैं गुजरते

लोग उन जैसा होने हैं लगते

बादल भी हैं जब जब बरसते

मोहब्बत को भीगाने को हैं तरसते

और प्यार में डूबना तो है एक कला

जो डूबा वो अपने खुदा से जा मिला

ज़रा ढूंढो अपने प्यार को

और जो ढूढ़ चुके हो तो

ज़रा समझो अपने यार को

महसूस करो उसके दीदार को

रब करे प्यार तुम्हारा सदाबहार हो

क्या पता तुम ही में अगले

हीर राँझा का अवतार हो

खुदा करे खुशियाँ तुम्हारे

जीवन में बेशुमार हो

New shayari status

इन्द्रधनुष के सातोंरंग

अंदाज़ ए वफ़ा

कुछ ऐसा होगा

तेरा पल पल इन

आँखों में बयां होगा

रोम रोम मेरा

फिर से जवां होगा

ऐसा समा ओर कहाँ होगा

जब हम तुम होंगे संग

ढूंढ लेंगे हमें

इन्द्रधनुष के सातों रंग

बज उठेंगे ताल और मृदंग

जश्न में डूबेंगे

हम और हमारी हमदम

 

12 Aug

जब भी कोई ख्वाब पूरा हुआ

जब भी कोई ख्वाब पूरा हुआ

मेरा मन जैसे सुनहरा-सुनहरा हुआ

तुमसे जब जब मिलना हुआ

जहन में मेरे एक सवाल पुख्ता हुआ

की इतना हसीना ख्वाब

मेरा न जाने कैसे हुआ

किस तरह न जाने

मेरा मुकद्दर मुझपे मेहरबान हुआ

कैसे मेरे नसीब में फूलो का गुलिस्ता हुआ

कौन से कर्म की

या मेर धरम की

न कहना अब की मैनें लिखने में शर्म की

तुम मिली मुझे

क्यूकि खुदा ने मुझ पर रहमत की

07 Aug

प्यार में तुम्हारे दीवाने हुए

प्यार में तुम्हारे दीवाने हुए

इस दुनिया में रहने के काबिल हुए

बातो में तुम्हारी शामिल हुए

जैसे खुदा की खिदमत में हाजिर हुए

फिर क्यूँ कहती हो

हम जालिम हुए

बस कुछ पलो के लिय ही सही

आज हम तुममे शामिल हुए

         प्रेम खत

मेरी प्रिय,

मेरी जानेमन यह कोई इतेफ़ाक नही की हम तुम मिले एक दूजे के हुए| यह सृष्टि की ख्वाहिश थी | हर फुल की गुजारिश थी | जिन्दगी तो दो पल की  भागदौड हैं| बस प्यार से तुन्हारे यह जीवन सराबोर है | लिखने की ख्वाहिश भी तुम ही से, कुछ करने की चाहते भी तुम ही से| जिन्दगी यूँही गुजर जायेगी, तुम्हारी जुल्फों की छांव में |

तुम्हारा प्रियतम