quotes Tag

17 Jun

Lonely Lonely

कितने lonely lonely रहते हैं
तेरे बिना
कर ले यकीन जो भी हम कहते है
ए मेरी हिना
तेरे लबों पे ख़ामोशी
हम क्यूँ सहें
पानी बिन सागर
भला कैसे रहे
तड़प रहे हैं पल पल
कैसे कहें
बन पानी आँखों से तुम्हारी
हम यूँ बहें
की होश में ना तुम रहे
ना हम रहे

17 Jun

वक़्त कुछ ऐसा बदला

तुझसे मिलने में वो बात है
की भीगे मेरे ज़ज्बात हैं
एक ऐसा मुकाम जो
तेरे साथ साथ
हम पा गए
साथ मिला तेरा
और हम खुद को
खुद ही से हार गए
एक वक़्त था जब
खुदा से मिलने की खातिर
राहो को अपनी हम निहार रहे थे
वक़्त कुछ ऐसा बदला
हवा ने रूह कुछ यूँ पलटा की
हम जुल्फे तुम्हारी संवारने में
वक़्त अपना गुजार रहे थे

17 Jun

चांदनी में लिपटी हुई

करिश्मा हो तुम
मेरी रूह का
आइना भी तुम
मेरी तमन्नाओं की
चाहत हो तुम
भीगी पड़ी मेहंदी
ख्वाहिश भी तुम
चांदनी में लिपटी हुई
सी मूरत हो तुम
जो खुदा से की थी
वो गुजारिश भी तुम

14 Jun

लिखने मे भी आनन्द कहा आता है

आप कि खातिर
आप कि कसम
कहने को हम जी रहे है
पर तुमसे मिलने कि
आस मे तड़प से रहे है
वक़्त वो पल भर मे गुजर जाता है
जिस पल मे तुम्हारा साथ घुल जाता है
और सुनो रानी तुम पास ना हो तो
लिखने मे भी आनन्द कहा आता है

13 Jun

हम कौन है ये जान पाए थे

में मेरा नहीं तू तेरा नहीं |
इस जीवन में कोई अकेला नहीं |
अपनी सोच पे रखकर विश्वास,
जो खुद पर करते ऐतबार ,
तनहा नहीं होते आज |
अपने सपनों को पीछे छोड़ आये थे |
माँ के समझाने से समझ पाए थे |
हम कौन है ये जान पाए थे |

13 Jun

वाह रे हम वाह रे हमारे दीवाने

यहाँ की कहें तो वो बुरा माने |
हमारी कहो तो हम बुरा माने |
पीछे से कौन क्या कहें ,
हम क्या जाने |
सामने सब अपना माने |
हम क्या चाहे हम ना जाने |
दुनिया क्या चाह वो हम माने |
फिर भी सबसे बेहतर कहलाना चाहे|
कुछ अलग ना करे पर खुद को
औरों से अलग जाने |
वाह रे वाह रे हमारे दीवाने|

13 Jun

हमारा भारत है महान

आध्यात्म की परिभाषा जानने को |
विचारो से उनके अपना जीवन सवारने को |
चली पश्चिम की हवाएं ,
गंगा के मुहाने को |
जानकर भी कुछ बन रहे अन्जान |
सभी को होती है भले बुरे की पहचान |
जाग जा ओ इंसान |
हमारा भारत है महान |

13 Jun

PUSHPA I HATE TEARS

कहना कुछ भी हम तो जी रहे हैं हर पल |
जानता कुछ नहीं स्वाभाव से थ वो सरल |
प्यार कब हमारे जीवन का हिस्सा हो गया |
उनका हर किस्सा मशहूर हो गया |
चन्द पलों म वो दास्तान यूँ बयान कर जाते थे |
हर तरफ खिलखिलाते चेहरे नज़र आते थे |
खुद पर जिसने ऐतबार ककया |
उसे खुदा ने कभी ना नज़रअंदाज़ किया |
काका की कहानी हमें तुम्हे सुनानी थी |
पहले सुपरस्टार की बात दोहरानी थी |
PUSHPA I HATE TEARS .
KAKA YOU ARE OUR DEAREST DEAR .

13 Jun

एक पैगाम है…….

बेहतरी को तेरी एक पैगाम है |
बरसों बाद तुम्हे देख हम हैरान हैं |
तुम वो  नहीं जो किसी के रोके रुकते ,
तेरी हस्ती तो कुछ और ही थी |
तुम वो नहीं जो चलते – चलते थकते ,
तेरी आँखों में नमी तो ना थी |
किस बात पे खुद ही से हुआ ख़फ़ा |
मिलने आये तुमसे हम कई दफ़ा |
हर पल सुखों के समन्दर नहीं होते |
छोटी -छोटी बातों पे ऐ दिल नहीं रोते |
ऐ जागती आँखों से सोने वाले |
सपने हक़ीक़त से रूबरू यूँहीं नहीं होते |

13 Jun

उम्मीदों की बरखा

नज़दीकियाँ हमारी |
दूर कर रही ,
बैचेनियों को हमारी |
प्यार के संग -संग
उठ रही एक तरंग |
जैसे तू डोर मैं पतंग |
शीतल काया तेरी , मेरे मन को मोह रही |
उम्मीदों की बरखा में जैसे भीगो रही |